Day 04 – gung pao shrimps

एक यहाँ, दूसरा वहां,
साथ छूठ जाते हैं कुछ निशाँ,
याद है वो महक, और वो एहसास,
कहीं वो बातें, और वो सामान।

Ek yahan, doosra wahan,
Saath chhooth jaate hain kuch nishaan,
Yaad hai wo mehek, aur wo ehsaas,
Kahin wo baatein, aur wo saamaan.

Leave a Reply