Day 06 – the dragon

अजीब सी है ज़िद,
जितना समझाओ उतना वो है टालती,
हर बार जैसे वो है याद दिलाती,
अपने मन के हम ही हैं सारथि।

Leave a Reply