Day 13

खो गए हैं इन अक्षरों में,
भूले आँखों की हम भाषा,
शब्द बन जाते हैं बाण,
पर बिना इनके सोचो कैसी गाथा।

Kho gaye hain in aksharon mein,
Bhoole aankhon ki hum bhasha,
Shabd ban jaate hain baan,
Par bina inke socho kaisi gaatha’

Leave a Reply