Day 15

कांच को भेदती रौशनी,
चीर नहीं सकती दिल के कवच को,
वो तो पानी की कोशिश है,
जो तोड़ देता है चट्टानों को।

Kaanch ko bhedti roshni,
Cheer nahi Sakti dil ke kavach ko,
Wo to paani ki koshish hai,
Jo tod deta hai chattanon ko.

Leave a Reply