/Day 07 – the colours

रंगों की है अजब कहानी,  एक रंग है अकेला,  दो मिलें तो तीसरा,  सारे मिल जाएं तो बेरंगी।

रंगों की है अजब कहानी,
एक रंग है अकेला,
दो मिलें तो तीसरा,
सारे मिल जाएं तो बेरंगी।

‘Rangon ki hai ajab kahani,
Ek rang hai akela,
Do milein toh teesra,
saare mil jayein toh berangi.

(egos spoil the fun in relationships, by loosing our colours in a family, is what makes us a family)

Leave a Reply