/Day 08 – the wings

लोहे के पंखों पर सवार,  जैसे यक्ष का ले कर संदेस,  आओ चलें बादलों के पार,  दूर कहीं किसी और देस।

लोहे के पंखों पर सवार,
जैसे यक्ष का ले कर संदेस,
आओ चलें बादलों के पार,
दूर कहीं किसी और देस।

‘Lohe ke pankhon par sawaar,
Jaise yaksh ka le kar sandes,
Aao chalein baadlon ke paar,
Door kahin kisi aur des.’

(With flights every week I feel like the messenger from Sanskrit poem ‘meghdoot’. Just that the mystical mount kailash and Yaksha’s love filled letter to his wife is missing) 🙂

Leave a Reply