/Day 09 – the taxi driver

बन्दे हैं दिल के साफ़,  पर दिल खुले नहीं,  वो टपरी की चाय है याद,  पर दोस्त यहाँ नहीं।

बन्दे हैं दिल के साफ़,
पर दिल खुले नहीं,
वो टपरी की चाय है याद,
पर दोस्त यहाँ नहीं।

‘Bande hain dil ke saaf,
Par dil khule nahin,
Wo tapri ki chai hai yaad,
Par dost yahan nahin.’

(the lines are based on the conversation i had with a taxi driver today – in a big city, people have clean hearts but shut. that makes me remember the tea with friends on that road-side stall in india, but those friends aren’t here)
#poem #mythoughtsinpics #Hindi

Leave a Reply