/Day 10 – the door

बदलते अवधि और अधर,  द्वार की चौखट पर,  बस धैर्य है आवश्यक,  हैं उस ओर तेरे सपनो के पर।

बदलते अवधि और अधर,
द्वार की चौखट पर,
बस धैर्य है आवश्यक,
हैं उस ओर तेरे सपनो के पर।

badalte avadhi aur adhar,
dwaar ki chaukhat par,
bas dhairya hai aavashyak,
hain us or tere sapnon ke par.

(the door is like a portal, to change time and space. it just needs that patience to continue the journey and reach for the wings of my dreams on the other side)

 

Leave a Reply